दुनिया के सात अजूबे कौन से है? Seven Wonders of the World in Hindi

आज हम आपको दुनिया के सात अजूबे Seven Wonders of the World in Hindi कौन-कौन से है इसके बारे में बताने वाले है. आप सभी ने सात अजूबे के बारे में कई बार सुना होगा पर क्या आप यह जानते है की आखिर सात अजूबे किसे कहा जाता है और क्यों. विश्व के सात अजूबे को चुनने की पहल सबसे पहले 1999 में शुरू की गई थी. जिसकी शुरुआत सबसे पहले स्विट्ज़रलैंड से की गई थी. सात अजूबो का चयन करने के लिए एक फाउंडेशन की स्थापना की गई थी. जिसने पूरे विश्व की 200 धरोहरों की सूची तैयार की थी. इस सूची के माध्यम से उन सात अजूबो का चयन करने के लिए वोटिंग कराई गई थी जो इंटरनेट और टेलीफोन के द्वारा संपन्न की गई थी.

Duniya Ke Saat Ajuube Aur Unke Photo

आज हम जिन धरोहरों को दुनिया के सात अजूबो के नाम से जानते है उन्हें इस लिस्ट में किसने शामिल किया है. साल 1999 में दुनिया की सबसे खूबसूरत धरोहरों को एक लिस्ट में शामिल करने के लिए स्विट्ज़रलैंड में Wonders of the World फाउंडेशन नामक एक संस्था को शुरू किया गया था. इस संस्था ने अपनी सूची में दुनिया की सबसे खूबसूरत 200 धरोहर को शामिल किया गया था.

इसके बाद सात अजूबो को चुनने के लिए पुरे विश्व में वोटिंग करायी गयी थी. वोटिंग फ़ोन और इंटरनेट के द्वारा करायी गयी थी जिसमे दुनियाभर के करीब 10 करोड़ लोगो ने हिस्सा लिया था और 2007 में इस सूची का परिणाम आया. जिसे आज हम दुनिया के सात अजूबो के नाम से जानते है.

दुनिया के सात अजूबे के नाम  और जगह

Numberदुनिया(Country)अजूबे (Wonders)Kya Ajuba Hai
1चीनचीन की दीवार- (Great Wall of China) दीवार की लम्बाई लगभग 6400 किलोमीटर
2भारतताजमहल (Taj Mahal)ऊंचाई 73 मीटर, सफ़ेद संगमरमर के पत्थर
3जॉर्डनपेट्रा (Petra)बड़ी बड़ी चट्टानों और पत्थरों से तराशी गई इमारत
4ब्राज़ीलक्राइस्ट रिडीमर (Christ Redeemer)ईसा मसीह की एक प्रतिमा 130 फीट ऊँची
5दक्षिण अमेरिकीमाचू पिच्चू (Machu Picchu)ऐतिहासिक स्थल
6इटलीकोलोसियम (The Colosseum)विशाल स्टेडियम
7मक्सिकोचीचेन इट्ज़ा (Chichen Itza)प्राचीन और विश्व प्रसिद्ध मायन मंदिर

1. चीन की दीवार- (Great Wall of China)

china363803066

चीन की दीवार सात अजूबे में से एक अजूबा है. चीन में स्थित यह दीवार दुनिया की सबसे बड़ी दीवार है. इस दीवार को अंतरिक्ष से भी आसानी से भी देखा जा सकता है. इस दीवार की लम्बाई लगभग 6400 किलोमीटर है. यह दीवार तकरीबन 35 फ़ीट ऊँची है और चौड़ाई की बात करें तो इस दीवार पर 10 लोग एक साथ आसानी से चल सकते है.

इस दीवार का निर्माण कार्य 7वीं शताब्दी से लेकर 16वीं शताब्दी तक एक लम्बी अवधि में पूर्ण हुआ है. इस दीवार को बनाने के लिए 20 से 30 लाख लोगो ने अपना पूरा जीवन लगा दिया था. ऐसा कहा जाता है की इस दीवार के बीच में जो खाली जगह है अगर इसको मिला दिया जाये तो इसकी लम्बाई 8848 किलोमीटर हो जाएगी.

इस दीवार को बनाने में मिट्टी, ईटों, लकड़ी और नुकीले पत्थरों का उपयोग किया गया है. इस दीवार को चीन के कई शासकों और राजाओं द्वारा हमलावरों से बचाने के लिए बनाया गया था. यह दीवार पूर्वी चीन से लेकर पश्चिमी चीन तक फैली हुई है.

2. ताजमहल (Taj Mahal)

TajMahal

भारत के आगरा शहर में स्थित ताजमहल भी दुनिया के सात अजूबे में से एक है. ताजमहल को मुग़ल बादशाह शाहजहाँ ने 1632 में अपनी पत्नी मुमताज की याद में बनवाया था. ताजमहल मुग़ल साम्राज्य की प्रमुख स्थापत्य उपलब्धियों में से एक है. इस ईमारत को बनाने में लगभग 16 वर्ष का समय लगा था. इसकी ऊंचाई 73 मीटर है. यह 17 हेक्टेयर के क्षेत्रफल में फैला हुआ है.

इसे बनाने के लिए 20,000 से भी ज्यादा मजदूरों ने काम किया था. जिन मजदूरों ने इसे बनाया था शाहजहाँ ने उनके हाथ कटवा दिए थे ताकि वह ऐसी चीज दोबारा ना बना सके. इसके निर्माण के लिए शाहजहाँ ने पूरी दुनिया से सफ़ेद संगमरमर के पत्थर मंगवाए थे. ताजमहल को प्यार की निशानी भी कहा जाता है और इसे देखने के लिए दुनियाभर से लाखो पर्यटक आते है.

3. पेट्रा (Petra)

Petra

पेट्रा जॉर्डन के मआन प्रान्त में बसी एक ऐतिहासिक नगरी है जो बड़ी बड़ी चट्टानों और पत्थरों से तराशी गई इमारतों के लिए जानी जाती है. इस इमारत के पत्थर लाल रंग के है इसलिए इसे रोज सिटी के नाम से भी जाना जाता है. पेट्रा को यूनेस्को द्वारा एक विश्व धरोहर होने का दर्जा भी मिल चूका है. इसका निर्माण कार्य 1200 ईसा पूर्व में शुरू हुआ था. इन्ही सारी खूबियों को देखते हुए इसे दुनिया के सात अजूबो में शामिल किया गया है.

4. क्राइस्ट रिडीमर (Christ Redeemer)

Christ Redeemer

यह ब्राज़ील के रियो डी जेनेरो में स्थापित ईसा मसीह की एक प्रतिमा है जो दुनिया की सबसे ऊँची मूर्तियों में से एक है. यह मूर्ति तिजूका फारेस्ट नेशनल पार्क में कोर्कोवाड़ो पर्वत की चोटी पर स्थित है. यह 130 फीट ऊँची है. इस मूर्ति को कंक्रीट के सोपस्टोन से बनाया गया है इसका निर्माण 1922 से 1932 के बीच किया गया था. इसकी चौड़ाई 98 फ़ीट है.

इस प्रतिमा का वजन 635 टन है. इस मूर्ति को बनाने में लगभग 2,50,000 डॉलर खर्च हुए थे. इस मूर्ति को ब्राज़ील के हेइटर दा सिल्वा कोस्टा द्वारा डिजाइन किया गया था और इसे फ्रेंच के महान मूर्तिकार लेनदोव्सकी के द्वारा बनाया गया था. यह मूर्ति दुनियाभर में ईसाई धर्म का बड़ा प्रतीक है.

5. माचू पिच्चू (Machu Picchu)

Machu Picchu
Early morning in wonderful Machu Picchu

दुनिया के सात अजूबे में शामिल माचू पिच्चू दक्षिण अमेरिकी देश पेरू में स्थित एक ऐतिहासिक स्थल है. यह समुद्र तल से 2430 मीटर ऊंचाई पर स्थित है इतनी ऊंचाई पर बने पहाड़ी के ऊपर रहना और शहर को बनाना अपने आप में एक अजूबा ही है. इसे इंकाओं का खोया हुआ शहर के नाम से भी जाना जाता है.

इसका निर्माण 1400 के आसपास इंका सम्राज्य के राजा पचाकुटी ने करवाया था. हालांकि बाद में इस स्थान पर स्पेन ने विजय प्राप्त की थी और इसे ऐसे ही छोड़ दिया गया था. जिसके बाद यहाँ की सभ्यता धीरे धीरे नष्ट गई.लेकिन 1911 में अमेरिका के इतिहासकार हिरम विघम ने इसकी खोज की थी और इस ऐतिहासिक स्थल दुनिया के सामने लाया था.

इसे लॉस्ट सिटी ऑफ़ द इन्का के नाम से भी जाना जाता है. इसे साल 2007 में वोटिंग द्वारा दुनिया के सात अजूबों में शामिल किया गया था.

6. कोलोसियम (The Colosseum)

colosseum

यह इटली देश के रोम शहर के मध्य निर्मित विशाल स्टेडियम है. इसका निर्माण सम्राट टाइटस द्वारा 80वीं सदी में करवाया गया था. इस स्टेडियम को रेट और कंक्रीट से बनाया गया है. इस स्टेडियम में लगभग 50 हजार से 80 हजार लोग एक साथ बैठ सकते है. यह विश्व की सबसे पुरानी वास्तुकलाओं में से एक है.

यहाँ प्राचीन काल मे पशुओं की लड़ाई, खेल कूद और सांस्कृतिक कार्यक्रम हुआ करते थे. यह 24 हजार वर्गमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है. यह विश्व की सबसे पुरानी वास्तुकलाओं में से एक है. प्राकृतिक आपदा, भूकंप से ये थोड़ा बहुत ध्वस्त हुआ लेकिन आज भी इसकी विशालता वैसे ही है. इसके जैसी आकृति को बनाने की कोशिश कई इंजिनियरों द्वारा की गई थी लेकिन ये एक तरह की पहेली है, जिसे आज तक कोई सुलझा नहीं पाया है.

7. चीचेन इट्ज़ा (Chichen Itza)

chichen itza

चीचेन इट्ज़ा मक्सिको का प्राचीन और विश्व प्रसिद्ध मायन मंदिर है. इस मंदिर का निर्माण 600 ईसा पूर्व में किया गया था. यह ईमारत माया सभ्यता काल की गाथा गाती है. यह मंदिर पिरामिड की आकृति का है जिसकी ऊंचाई 79 फीट है यह 5 किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है.

इस मंदिर के सबसे ऊपर चढ़ने के लिए चारों तरफ सीढ़ियां बनी हुई है. इस मंदिर के चारो दिशाओ में 90 सीढ़िया है और हर एक सीढ़ी साल के एक दिन का प्रतिक है और 365वां दिन ऊपर बना चबूतरा है. इसके अलावा इस जगह पर पिरामिड ऑफ़ कुकुल्कन, हज़ार स्तंभों के हॉल एवं कैदियों के खेल का मैदान है. यह सबसे बड़े मयान मंदिरों में से एक है.

ये भी पढ़े: