Minister of Human Resource
केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री
जन्म - 15 July, 1959
उम्र 63 वर्ष (63 Years)
चुनाव क्षेत्र(Constituency) and सदस्य(Member)
राजनीतिक दल
भारतीय जनता पार्टी (BJP)
सदस्य(Member)
लोकसभा का सदस्य (Member of Parliament Lok Sabha)
चुनाव क्षेत्र
हरिद्वार
जिला(District)
हरिद्वार
राज्य(State)
Uttarakhand
देश(Country)
भारत(INDIA)
हमारे बारे में जाने
रमेश पोखरियाल निशंक एक भारतीय राजनेता है वह वर्तमान में भारत सरकार में मानव संसाधन विकास मंत्रालय के केंद्रीय मंत्री है. वह हरिद्वार लोकसभा सीट से संसद सदस्य है. रमेश पोखरियाल निशंक 2009 से 2011 तक उत्तराखंड के मुख्यमंत्री भी रह चुके है. वे लोकसभा की आश्वासन समिति के अध्यक्ष है.
व्यक्तिगत जानकारी (Personal Information)
नाम
रमेश पोखरियाल निशंक
जन्म वर्ष
15 July, 1959
जन्म स्थान
पौड़ी गढ़वाल, उत्तराखंड
पत्नी/Wife
कुसुमकांता पोखरियाल (marriage-1985, died-2012)
बच्चे
आरुषि निशंक (पुत्री), श्रेयशी निशंक (पुत्री), विदुषी निशंक (पुत्री)
शिक्षा (Education)
  • एमए (M.A) हेमवती नंदन बहुगुणा गढ़वाल विश्वविद्यालय, श्री नगर, (गढ़वाल), उत्तराखंड

  • पीएचडी (Ph.D) (Hon.) हेमवती नंदन बहुगुणा गढ़वाल विश्वविद्यालय, श्री नगर, (गढ़वाल), उत्तराखंड

  • डॉक्टर ऑफ़ लिटरेचर (D.Litt.) हेमवती नंदन बहुगुणा गढ़वाल विश्वविद्यालय, श्री नगर, (गढ़वाल), उत्तराखंड

राजनीति जानकारी (Political Information)
  • 2019 में नरेंद्र मोदी सरकार में केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री बने.
  • 2014 से 2019 तक लोकसभा की सरकारी आश्वासन समिति के सभापति चुने गए.
  • 2014 में हरिद्वार लोकसभा सीट से सांसद निर्वाचित हुए.
  • 2012 में डोईवाला विधान सभा क्षेत्र से विधायक निर्वाचित हुए.
  • 2011 से 2013 तक भारतीय जनता पार्टी राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बने.
  • 2009 से 2011 तक उत्तराखंड के मुख्यमंत्री रहे.
  • 2007 से 2009 तक उत्तराखंड सरकार में चिकित्सा, स्वास्थ्य, परिवार कल्याण, आयुष, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी और भाषा विभाग के कैबिनेट मंत्री बने.
  • 2000 में उत्तराखंड सरकार में वित्त, ग्राम्य विकास, चिकित्सा सहित 12 विभागों के कैबिनेट मंत्री बने.
  • 1998 में उत्तर प्रदेश के संस्कृति एवं धर्मस्व विभाग के कैबिनेट मंत्री बने.
  • 1997 में पहली बार उत्तर प्रदेश सरकार में (उत्तरांचल विकास विभाग) के कैबिनेट मंत्री बने.
  • 1991, 1993, और 1996 में कर्णप्रयाग क्षेत्र से लगातार तीन बार उत्तरप्रदेश की विधान सभा के सदस्य निर्वाचित हुए.
  • 1978 से उत्तराखंड राज्य निर्माण हेतु संघर्षरत रहे.