Chief Minister of Punjab
पंजाब के मुख्यमंत्री
जन्म - 10 March, 1942
उम्र 82 वर्ष (82 Years)
चुनाव क्षेत्र(Constituency) and सदस्य(Member)
राजनीतिक दल
भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (INC)
सदस्य(Member)
विधान सभा के सदस्य (Member of Legislative Assembly)
चुनाव क्षेत्र
पटियाला
जिला(District)
पटियाला
राज्य(State)
Punjab
देश(Country)
भारत(INDIA)
हमारे बारे में जाने
कैप्टन अमरिंदर सिंह एक भारतीय राजनीतिज्ञ और सैन्य इतिहासकार है वर्तमान में वह पंजाब के मुख्यमंत्री है. वें पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के राज्य विभाजन के अध्यक्ष भी थे. वर्तमान में वह पंजाब उर्दू अकादमी के अध्यक्ष भी है. इनके पिता पटियाला रियासत के अंतिम महाराजा थे. इन्होने 1963 से 1966 तक भारतीय सेना में भी काम किया है.
व्यक्तिगत जानकारी (Personal Information)
नाम
कैप्टन अमरिंदर सिंह
जन्म वर्ष
10 March, 1942
जन्म स्थान
पटियाला, पंजाब
पत्नी/Wife
प्रणीत कौर (marriage-1964)
बच्चे
रनिंदर सिंह (पुत्र), जय इंदर कौर (पुत्री)
शिक्षा (Education)
  • वेल्हम बॉयज स्कूल, देहरादून

  • द लॉरेंस स्कूल, सनावर सोलन, हिमाचल प्रदेश

  • द दून स्कूल, देहरादून

  • राष्ट्रीय रक्षा अकादमी, पुणे, महाराष्ट्र

  • भारतीय सैन्य अकादमी, देहरादून, उत्तराखंड

राजनीति जानकारी (Political Information)
  • 2017 में दूसरी बार पंजाब के मुख्यमंत्री बने.
  • 2015 में पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष के रूप में चुने गए.
  • 2010 में दोबारा पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष बने.
  • 2008 में पंजाब कांग्रेस अभियान समिति के अध्यक्ष के रूप में नियुक्त हुए.
  • 2002 में पंजाब के मुख्यमंत्री बने.
  • 1999 में पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष बने.
  • 1998 में पटियाला संसदीय क्षेत्र से पंजाब विधानसभा का चुनाव लड़ा लेकिन प्रेम सिंह चंदूमाजरा से हार गए. बाद में उन्होंने कांग्रेस के साथ शिरोमणि अकाली दल (पंथिक) का विलय कर लिया.
  • 1992 में अकाली दल से इस्तीफा दे दिया और उन्होंने अपनी पार्टी शिरोमणि अकाली दल (पंथिक) बनाई. जो बाद में कांग्रेस में शामिल हो गई.
  • 1984 में तलवंडी साबो सीट से पंजाब विधानसभा के लिए चुने गए. उन्होंने कांग्रेस पार्टी के अवतार सिंह को हराया. पंजाब सरकार में कृषि, वन, विकास और पंचायतों के लिए सरकार में मंत्री बने.
  • 1984 में ऑपरेशन ब्लू स्टार के दौरान सेना कार्रवाई के खिलाफ एक विरोध के रूप में संसद और कांग्रेस पार्टी को छोड़ दिया और शिरोमणि अकाली दल में शामिल हो गए.
  • 1980 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में शामिल हुए और लोकसभा के लिए चुने गए.
Social Information